SAvsIND: धवन और साहा की छुट्टी तय, भुवी की जगह ले सकते हैं इशांत

दूसरे टेस्ट में होगी वापसी

दूसरे टेस्ट में तीन बदलाव कर सकते हैं विराट कोहली- साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट में हार के बाद भारतीय टीम नए बदलाव के साथ दूसरे टेस्ट में उतरने जा रही है. शनिवार से सेंचुरियन में शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट मैच से विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा और सलामी बल्लेबाज शिखर धवन का बाहर बैठना लगभग तय लग रहा है. लेकिन उप कप्तान अजिंक्य रहाणे की वापसी की संभावना अभी भी न के बराबर ही लग रही है.

भुवी आउट इशांत इन

सेंचुरियन की पिच इस बार स्विंग गेंदबाजी के अनुकूल नहीं लग रही है ऐसे में भुवनेश्वर कुमार को भी बाहर बैठना पड़ सकता है. भले ही उन्होंने पहले मैच में अफ्रीकी टीम के छह बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा हो लेकिन उनकी जगह तेज गेंदबाज इशांत शर्मा खेलते दिख सकते हैं. हालाकि इशांत के नाम पर अभी विचार ही चल रहा है लेकिन दो बदलाव तय दिख रहे हैं.

बदलेगी सलामी जोड़ी

बात अगर सलामी बल्लेबाजी की करें तो शिखर धवन की जगह कर्नाटक के लोकेश राहुल का खेलना लगभग तय लग रहा है. धवन को लेकर मैनेजमेंट ने अपनी राय साफ कर ली है. उनका मानना है कि बायें हाथ का यह बल्लेबाज मुंबई, दिल्ली या कोलंबो में बेहतर विकल्प हो सकता है लेकिन ब्रिस्बेन, हैडिंग्ले या केपटाउन में नहीं. राहुल ने अब तक 21 टेस्ट मैचों में 44.62 की औसत से 1428 रन बनाए हैं जिसमें चार शतक और दस अर्द्धशतक शामिल हैं.

साहा की जगह लेंगे पार्थिव

लगातार अपने बल्ले से शानदार प्रदर्शन करने वाले पार्थिव पटेल एक बार फिर प्लेइंग इलेवन में जगह बनाते दिख रहे हैं. लेकिन इस बार साहा के चोटिल होने के कारण नहीं. पटेल को साहा की तुलना में बेहतर बल्लेबाज माना जाता है. इंग्लैंड के खिलाफ साहा के चोटिल होने के बाद प्लेइंग इलेवन में जगह बनाने वाले पार्थिव ने तीन टेस्ट मैच में 195 रन बना कर नए बहस को जन्म दिया था. लेकिन बीसीसीआई साहा को ही नंबर वन टेस्ट विकेटकीपर मानती रही थी. विदेशी दौरे पर जाने के बाद अब पसंद बदलती दिख रही है.

बीसीसीआई के एक अधिकारी की मानें तो पार्थिव बेहतर बल्लेबाज अपनी बातों को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा, ‘‘टीम मैनेजमेंट का मानना है कि उसे बल्लेबाजी को मजबूत करने की जरूरत है. अब तक 23 टेस्ट मैचों में 878 रन बनाने के अलावा उनका (पार्थिव) फर्स्ट क्लास रिकॉर्ड बेजोड़ है. उन्होंने 10,000 से अधिक रन और 26 शतक लगाए हैं. टीम मैनेजमेंट इसे नजरअंदाज नहीं कर सकता.’’ पार्थिव को साहा की तुलना में बैकफुट का बेहतर खिलाड़ी माना जाता है.

और खबरें पढ़ें