हार भुलाने के लिए फीज़ियो पैट्रिक कर रहे हैं टीम इंडिया की 'खास' मदद

नई दिल्ली/न्यूलैंड्स: 3 मैचों की टेस्ट सीरीज़ के पहले मुकाबले में भारतीय टीम को 72 रनों से करारी हार का सामना करना पड़ा. केपटाउन के न्यूलैंड्स में खेले गए पहले मुकाबले में भारतीय टीम की हार दिल तोड़ने वाली थी, क्योंकि इस मुकाबले में भारतीय टीम जीतते-जीतते रह गई. लेकिन इस हार का दर्द ऐसा है जो टीम इंडिया को मानसिक तौर भी परेशान कर रहा है.

लेकिन टीम इंडिया की इस संकट की घड़ी, उनके सबसे बड़े संकटमोचक बनकर आए हैं फीजियो पैट्रिक फराड. पैट्रिक की निगरानी में ही टीम अगले मुकाबले की तैयारियों में मन लगाने के लिए और पिछली हार को भुलाने के लिए कुछ खास करती नज़र आ रही है.

चलिए अब हम आपको बताते हैं कि टीम इंडिया कर क्या रही है?

दरअसल ये एक गेम है जिसे टीम इंडिया के फीजियो पैट्रिक फराड करा रहे हैं. इस गेम में टीम इंडिया को येलो और रेड टीम में बांटा गया. येलो टीम पीले रंग के रुमाल के साथ है और रेड टीम लाल रंग के रूमाल के साथ. इस गेम में हर टीम के खिलाड़ी को अपने रूमाल बचाने थे और विरोधी टीम से उनके रूमाल छीन लेने थे. 

यानी कि पीली रूमाल वाली टीम लाल रंग के रूमाल हथियाने में लगी थी, वहीं दूसरी टीम ठीक इसका उल्टा कर रही थी. इस गेम का मकसद टेंशन भगाना और प्रैक्टिस को थोड़ा मजेदार बनाना था.

दरअसल केपटाउन टेस्ट में हार के बाद से ही टीम इंडिया के खिलाड़ी तनाव में थे. इस छीना-झपटी वाले खेल के जरिए खिलाड़ी तनाव से दूर रहे और रिलैक्स भी महसूस किया. ये जरूरी भी था क्योंकि उनको अब केपटाउन की हार भूल कर सेंचुरियन टेस्ट की तैयारी जो करनी है. 

और खबरें पढ़ें